paintedpostcards

A topnotch WordPress.com site

“मर्दानगी ” के सन्दर्भ में मेरी पहली ट्रेनिंग July 28, 2015

Filed under: Uncategorized — paintedpostcards @ 12:06 pm

यह मेरा पहला ब्लॉग हैं जो मैंने CHSJ ट्रेनिंग में सीखा, महसूस किया, उसका कुछ अंश यहाँ आप सब के साथ शेयर कर रहा हूँ ….

CHSJ ज्वाइन करने के एक साल बाद पहली बार मुझे मौका मिला मर्दानगी पर अपनी समझ बनाने के लिए और यह मौका मैंने दोनों हाथों से स्वीकार किया! मुझे जैसे ही पता चला की CHSJ एक ट्रेनिंग शुरू कर रहा हैं मर्दानगी के सन्दर्भ में तो मैंने सोच लिया की मुझे भी अपनी एक अच्छी समझ बनानी हैं बस फिर क्या था मैंने अपना रजिस्ट्रेशन करवाया और ट्रेनिंग के लिए अपने आप को तैयार कर लिया ट्रेनिंग का समय और दिन निर्धारित था जो की 22 जून से 25 जून तक सुबह 10:30 से 05:30 तक CHSJ मीटिंग हॉल में होने जा रही थी! मैं समयानुसार अपने निर्धारित समय पर ट्रेनिंग कक्ष में पहुच गया! चूकी ट्रेनिंग 4 दिन की थी इन चार दिनों में मुझे मर्दानगी से संबंधित काफी  कॉन्सेप्ट क्लियर हुए हैं ! चार दिन की ट्रेनिंग में तक़रीबन 25-40 लोगो ने भाग लिया सबके साथ मिलना- जुलना, उनके साथ समय बिताना , उनके अनुभव को सुनना सच में एक अलग ही अनुभव था ये सब मेरे लिए बिलकुल नया था! ट्रेनिंग को हमने सिखने के साथ साथ बहुत एन्जॉय किया और अपने अन्दर एक आत्मविश्वास महसूस किया की मर्दानगी को लेकर मेरा जो नजरिया था वह बहुत ही अलग था और जबकि वास्तविक जीवन में बहुत अलग हैं! ट्रेनिंग को लेकर मन में अजीब अजीब से सवाल और डर भी थे की मेरे लिए सब कुछ नया हैं और में कैसे मैनेज करूँगा लेकिन जैसे ही ट्रेनिंग रूम में गया वहां का माहौल देख के मेरे मन का डर दूर हो गया! पहले दिन सुबह हमे ब्रेकफास्ट दिया गया उसके बाद सबका परिचय एक दूसरे से करवाया और सब ने अपना अपना परिचय दिया! परिचय होने के बाद यह निकल के आया की कुछ लोगो की मर्दानगी पर अच्छी समझ थी और कुछ लोग बिलकुल नए थे इसीलिए ट्रेनर ने सभी को मध्य नजर रखते हुए एक साथ लेकर चलना उतम समझा और यह मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण था! ट्रेनिंग के पहले दिन हमे बताया गया की :-

  • मर्दानगी क्या होती हैं ?
  • मर्दानगी के क्या NORMS हैं ?
  • मर्दानगी कैसे काम करती हैं ?
  • मर्दानगी को किस दृष्टिकोण से देखा जाता हैं ?
  • मर्दानगी की क्या पहचान हैं ?

यह सभी topic को Role Play के और Act के द्वारा समझाया गया जो की बहुत ही impactful था! कुछ एक्टिविटीज के द्वारा सामाजिक वास्तविकता को भी दिखाया गया!

ट्रेनिंग के दूसरे  दिन समानता के बारे में बताया गया समानता जेंडर नजरिये से किस तरह ACCESS और CONTROL होती हैं! समानता को लेकर जब एक्टिविटीज की गयी तो RESOURCES को लेकर सबके अलग अलग विचार निकले तो हमारे सामने बहुत बड़ा रिजल्ट निकल के आया की महिला और पुरुष घर के बहार, घर के अन्दर और सार्वजानिक स्तर पर किस तरह महिला की और पुरुष की पहुँच होती हैं ट्रेनिंग के दूसरे दिन यह निष्कर्ष निकला की किस तरह भेदभाव,हिंसा,मर्दानगी सत्ता को लेकर आपस में एक दूसरे से जुडी हुई हैं और यह सब खेल सत्ता का होता हैं

ट्रेनिंग के तीसरे दिन धौसपूर्ण मर्दानगी के उपर चर्चा हुई और उसमें यह समझाया गया की किस तरह मर्दानगी यूनिफार्म, लैंग्वेज ,के साथ भी काम करती हैं ! collective Masculinity किस तरह society पर असर डालती हैं! पुरुषो और महिलाओ के छवियो, व्यवहारो के बारे में बताया गया

ट्रेनिंग के चोथे और आखिरी दिन जेंडर समानता बदलाव के ऊपर चर्चा हुई और यह भी बताया की हमे अपने स्वयं के स्तर पर क्या करना चाहिये ! ट्रेनिंग में हमे बहुत कुछ सीखने को मिला! मैं यहाँ बताना चाहता हूँ सब ने अपना अपना Experience शेयर किया! ट्रेनिंग के पहले दिन मेरे लिए सब नया था और ट्रेनिंग के आखिरी दिन मुझे ऐसा लगा की हाँ अब मैं भी समझता हूँ मर्दानगी क्या हैं ! मैं इस ट्रेनिंग से आये बदलाव को अपने अंदर समेटने की पूरी कोशिश करूंगा और मेरी हमेशा यही कोशिश रहेगी की मुझे और सीखने को मिले!

धन्यवाद

धीरज गिरी गोस्वामी

Advertisements
 

One Response to ““मर्दानगी ” के सन्दर्भ में मेरी पहली ट्रेनिंग”

  1. Lavanya Says:

    I hope you take part in many more discussions and workshops in the future and continue engaging with the issue. Films bhi dekho!!


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s