paintedpostcards

A topnotch WordPress.com site

“An unforgettable Sunday” May 27, 2013

Filed under: Uncategorized — paintedpostcards @ 7:20 am

On 28th April 2013, CHSJ helped set up and participated in a rally for Justice and Peace at Select Citywalk mall.  This is the reaction of Tulsi Manimuthu.

पहले मुझे रविवार को आना कुछ अच्छा नहीं लग रहा था, क्योंकि एक Sunday ही होता है जब हम देर तक सोते है। हम लोग करीब  2 बजे City walk  पहुचे ,  वंहा पर हम सब Volunteer कर रहे थे सब का काम बाटा हुआ था,   पहले  हम सब ने मिलकर वंहा पर Event  का setup  किया, फिर  पोस्टर और flags  लगाए. फिर हमारा काम बाटा गया, काम बाटने  का purpose Crowd ,Media management, और Celebrates  को प्रोटेक्ट करना और कुछ भीproblem  को manage करना था।

मेरा काम Media  और Crowd  को  स्टेज मैं जाने से रोकना था , जो बहुत अच्छे  से हुआ भी क्योंकि हम सब एक दुसरे की मदद कर रहे थे। मुझे वंहा पर कमला जी की  कमी महसूस हुई , और वंहा पर जब लोगो ने आप बीती बताई जो सुन कर गुस्सा भी आया और अपने आप मैं खुद को कमज़ोर भी महसूस किया, की हम पीड़ित लोंगो के लिए कुछ नहीं कर पा रहे है सिर्फ आश्वासन ही दे रहे है , पर इसकी सजा क्या हो, ये कौन तय करेगा, सजा कढोर हो या क्या कुछ समझ नहीं आ रहा था। यदि फाँसी या इससे कड़ोर कोई सजा होती तो शायाद  सब कुछ ठीक हो जाता, और आज ऐसा होता ही क्यों?

हमारे दिल मैं पीडितो के लिए  बहुत प्यार है जो  उन को उस तकलीफ़ से निकलने मैं मदद  कर सके।वंहा पर मुझे सईदा जी की बंदनी वाली कविता,  शबाना जी ने जो फरहान की लिखी कविता बहुत अच्छी लगी, साथ ही साथ उषा जी के सभी गीत बहुत अच्छे लगे,जिसमे से कुछ   महिला हिंसा को लेकर भी  थे . मेरे लिए नया था Event का सेटअप और crowd management, क्योंकि वंहा एक माहोल बनाना था, लोगो तक message भी  पहुचे जरुरी था, जो हम सब ने बहुत अच्छे से किया भी। लोगो को बुलाना जो हमरा मकसद था साथ ही साथ वो कुछ भी problem create न कर पाये ये भी देखना था. इतने सारे  लोगो को संभलना, साथ ही साथ टीम मैं काम को कैसे करना है यह सीखने का अवसर मिला, और जैसे मैने पहले ही बताया  था,  की मुझे Sunday को सोना बहुत अच्छा लगता है मेरा इस  बार का Sunday  हर बार की तरह नहीं. बहुत Useful  और Innovative  गया,  जो मुझे कभी भी नहीं भूलेगा , इसके लिए मैं अपनी संस्था की आभारी हूँ जिसने मुझे ये मौका दिया।

Advertisements
 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s